Ads

.

मरीजों के कोरोना टेस्ट सैंपल छीनकर भागे बंदर, पेड़ पर बैठ चबा डाली किट

मरीजों के कोरोना टेस्ट सैंपल छीनकर भागे बंदर, पेड़ पर बैठ चबा डाली किट


मरीजों के कोरोना टेस्ट सैंपल छीनकर भागे बंदर, पेड़ पर बैठ चबा डाली किट

मेरठ में बंदरों के आतंक का ये पहला मामला नहीं है. मेडिकल कॉलेज में कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जब या तो किसी मरीज का कोई सामान छीन लिया गया या किसी स्टाफ को बंदरों ने परेशान किया. यही नहीं चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी में तो बंदरों से निपटने के लिए बाकायदा एक लंगूर भी तैनात किया गया, जिसे हर माह तनख्वाह भी दी जाती है.

\
  • मरीजों के कोरोना टेस्ट सैंपल छीनकर भागे बंदर, पेड़ पर बैठ चबा डाली किट

    मेरठ के मेडिकल कॉलेज में बंदरों ने आतंक मचा रखा है. शुक्रवार को मेडिकल कॉलेज में उस समय अफरातफरी मच गई. जब बंदरों ने एक लैब टेक्नीशियन से कोरोना जांच के सैंपल ही छीन लिए. इस घटना का वीडियो वायरल हो गया है. वीडियो में साफ देखा जा सकता है बंदर पेड़ पर बैठा है और सैंपल कलेक्शन किट चबा रहा है.


  • मरीजों के कोरोना टेस्ट सैंपल छीनकर भागे बंदर, पेड़ पर बैठ चबा डाली किट

    वीडियो वायरल होने के बाद मेरठ मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉक्टर एस के गर्ग का कहना है कि जो सैंपल बंदर ले गए हैं वो कोरोना के गले के सैंपल नहीं थे बल्कि कोरोना के मरीजों के रुटीन चैकअप के लिए भेजे गए सैंपल थे. लेकिन कोरोना के जिन तीन मरीजों के सैंपल बंदरों ने छीने थे उन्हें बाद में फिर से लिया गया है.

  • मरीजों के कोरोना टेस्ट सैंपल छीनकर भागे बंदर, पेड़ पर बैठ चबा डाली किट

    वायरल वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि कैसे बंदर पेड़ पर बैठकर छीने गए सैंपल को खाने की कोशिश कर रहा है और उसे बाद में गिरा देता है. उत्तर प्रदेश में गुरुवार को कोरोना वायरस संक्रमण से 15 और लोगों की मौत हो गई, जबकि 179 नए मामले आने के साथ ही अभी तक संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 7170 हो गई है.

  • मरीजों के कोरोना टेस्ट सैंपल छीनकर भागे बंदर, पेड़ पर बैठ चबा डाली किट

    मेडिकल कॉलेज में जिस तरह से बंदरों ने कोरोना के मरीजों के सैंपल छीने हैं. उससे कई गंभीर सवाल खड़े हो गए हैं. लंबे समय से चली आ रही इस समस्या से निपटने के लिए कोई खास कदम क्यों नहीं उठाए गए. प्रशासन की इस बड़ी चूक से कई गंभीर परिणाम सामने आ सकते हैं. इस मामले को दबाने की पूरी कोशिश भी की गई.

  • Post a Comment

    0 Comments